0
loading...

_*ए. पी. जे. अब्दुल कलाम जी का सन्देश आपके दिन की बेहतर शुरुआत करने के लिए 😍😍 -*_

*1. जिदंगी मे कभी भी किसी को*
      *बेकार मत समझना,क्योक़ि*
        *बंद पडी घडी भी दिन में*
          *दो बार सही समय बताती है।*

*2. किसी की बुराई तलाश करने*
     *वाले इंसान की मिसाल उस*
       *मक्खी की तरह है जो सारे*
        *खूबसूरत जिस्म को छोडकर*
          *केवल जख्म पर ही बैठती है।*

*3. टूट जाता है गरीबी मे*
      *वो रिश्ता जो खास होता है,*
        *हजारो यार बनते है*
          *जब पैसा पास होता है।*

*4. मुस्करा कर देखो तो*
      *सारा जहाॅ रंगीन है,*
       *वर्ना भीगी पलको*
          *से तो आईना भी*
             *धुधंला नजर आता है।*

*5..जल्द मिलने वाली चीजे*
      *ज्यादा दिन तक नही चलती,*
        *और जो चीजे ज्यादा*
           *दिन तक चलती है*
            *वो जल्दी नही मिलती।*

*6. बुरे दिनो का एक*
      *अच्छा फायदा*
         *अच्छे-अच्छे दोस्त*
            *परखे जाते है ।*

*7. बीमारी खरगोश की तरह*
      *आती है और कछुए की तरह*
        *जाती है;*
          *जबकि पैसा कछुए की तरह*
             *आता है और.खरगोश की*
             *तरह जाता है ।*

*8. छोटी छोटी बातो मे*
      *आनंद खोजना चाहिए*
        *क्योकि बङी बङी तो*
          *जीवन मे कुछ ही होती है।*

*9. ईश्वर से कुछ मांगने पर*
      *न मिले तो उससे नाराज*
       *ना होना क्योकि ईश्वर*
           *वह नही देता जो आपको*
            *अच्छा लगता है बल्कि*
            *वह देता है जो आपके लिए*
                    *अच्छा होता है*

*10. लगातार हो रही*
        *असफलताओ से निराश*
           *नही होना चाहिए क्योक़ि*
           *कभी-कभी गुच्छे की आखिरी*
           *चाबी भी ताला खोल देती है।*

*11. ये सोच है हम इसांनो की*
        *कि एक अकेला*
          *क्या कर सकता है*
             *पर देख जरा उस सूरज को*
           *वो अकेला ही तो चमकता है।*

*12. रिश्ते चाहे कितने ही बुरे हो*
        *उन्हे तोङना मत क्योकि*
          *पानी चाहे कितना भी गंदा हो*
           *अगर प्यास नही बुझा सकता*
             *वो आग तो बुझा सकता है।*

*13. अब वफा की उम्मीद भी*
        *किस से करे भला*
            *मिटटी के बने लोग*
               *कागजो मे बिक जाते है।*

*14. इंसान की तरह बोलना*
         *न आये तो जानवर की तरह*
             *मौन रहना अच्छा है।*

*15. जब हम बोलना*
         *नही जानते थे तो*
           *हमारे बोले बिना'माँ*'
     *हमारी बातो को समझ जाती थी।*
            *और आज हम हर बात पर*
                 *कहते है छोङो भी 'माँ'*
                  *आप नही समझोंगी।*

*16. शुक्र गुजार हूँ*
        *उन तमाम लोगो का*
           *जिन्होने बुरे वक्त मे*
             *मेरा साथ छोङ दिया*
                 *क्योकि उन्हे भरोसा था*
                   *कि मै मुसीबतो से*
              *अकेले ही निपट सकता हूँ।*

*17. शर्म की अमीरी से*
         *इज्जत की गरीबी अच्छी है।*

*18. जिदंगी मे उतार चङाव*
         *का आना बहुत जरुरी है*
          *क्योकि ECG मे सीधी लाईन*
            *का मतलब मौत ही होता है।*

*19. रिश्ते आजकल रोटी*
        *की तरह हो गए है*
            *जरा सी आंच तेज क्या हुई*
            *जल भुनकर खाक हो जाते।*

*20. जिदंगी मे अच्छे लोगो की*
        *तलाश मत करो*
          *खुद अच्छे बन जाओ*
            *आपसे मिलकर शायद*
               *किसी की तालाश पूरी हो।*

...
loading...

Post a Comment

 
Top