0
loading...
एक नवयुवक आईएएस का इंटरव्यू देने गया।

उससे पूछा गया : -भारत को आजा़दी कब मिली?
...
.
उसने कहा "प्रयास तो काफी पहले शुरू हो गए थे पर सफलता 1947 में मिली।"
.
.
.
फिर उससे पूछा गया, "हमें आजा़दी दिलाने में महत्वपूर्ण भुमिका किसने निभाई ?"
.
.
.
वह बोला, "इसमें कई लोगों का योगदान रहा, किसका नाम बताऊं?
.
.
यदि किसी एक का नाम लेता हूं तो अन्य के साथ  अन्याय होगा।"
.
.
"क्या भ्रष्टाचार हमारे देश का सबसे बड़ा दुश्मन है?"
.
.
.
.
"इस बारे में शोध चल रहा है। सही उत्तर मैं तभी दे पाऊंगा जब रिपोर्ट देख लूं।"
.
.
.
इंटरव्यू बोर्ड इस नवयुवक के ओरिजनल उत्तरों से बेहद खुश हुआ।
.
.
.
उन्होंने नवयुवक को जाने को कहा, पर यह हिदायत दी कि वह बाहर बैठे अन्य उम्मीदवारों को ये प्रश्न न बताए क्योंकि वे यही प्रश्न उनसे भी पूछेंगे।
.
.
.
...
जब नवयुवक बाहर आया तो अन्य उम्मीदवारों ने उससे पूछा कि उससे क्या प्रश्न पूछे गए हैं।
.
.
.
इसने बताने से इन्कार कर दिया।
.
.
तब केजरीवाल जी ने कहा कि यदि प्रश्न नहीं बता सकते तो उत्तर ही बता दो। तब नवयुवक ने चुपके से सिर्फ केजरीवाल को उत्तर बता दिए।
.
.
अब केजरीवाल गया इंटरव्यू देने।
.
.
इंटरव्यू बोर्ड ने उससे पूछा
.
"आपकी जन्मतिथि क्या है?"
.
क़ेज़रीवाल-" प्रयास तो काफी पहले शुरू हो गए थे पर सफलता 1947 में मिली। " '😳😳😳
.
..
इंटरव्यू बोर्ड वाले कन्फ्यूज हो गए। उन्होंने अगला प्रश्न दागा,
.
"आपके पिताजी का नाम क्या है?"
..
केजरीवाल "इसमें कई लोगों का योगदान रहा, किसका नाम बताऊं? यदि किसी एक का नाम लेता हूं तो अन्य के
साथ अन्याय होगा।" 😂😂😂
.
.
बोर्ड वाले हक्के बक्के रह गए। उन्होंने कहा,
.
"क्या तुम पागल हो गए हो?"
.
केज़रीवाल -"इस बारे में शोध चल रहा है। सही उत्तर मैं तभी दे पाऊंगा जब रिपोर्ट देख लूंगा......
...
loading...

Post a Comment

 
Top