0
loading...

*यूँ ना खींच मुझे अपनी तरफ बेबस कर के*,

*ऐसा ना हो के खुद से भी बिछड़ जाऊं और तू भी ना मिले...*
🤔🤔🤔🤔🤔

*भावार्थ*👇
यहाँ कवि को ATM की लाइन से, दूर पड़ा एक 100 का नोट दिखाई देता है, कवि सोच रहा है, नकली हुआ तो नोट भी गया, लाइन भी...
🌿🌿😌😀😀

...
loading...

Post a Comment

 
Top